सीता बोलीं…


सरयू में विलीन हो चुके, तुलसी और वाल्मीकि के राम,
लाखों करोड़ो का दिल रखने के लिए, फिर एक बार,
हर छल-कपट, साम-दाम दंड-भेद के बाद,
अयोध्या पधारेंगे, कलयुग में, जय श्री राम ।

पर सीता, न आएंगी, उस नगरी, उस द्वार,
जहाँ के धोबी ने किया था, उनका दुष्प्रचार,
जहां मर्यादा हो चुकी लथपथ,
बिसरा दिए गए हों, शबरी अहिल्या के राम,
जहाँ गुमशुदा हो, जनकीय संवाद,
और चहु ओर हो, बस एका-धुन अनुनाद !
सीता बोलीं, ऐसे महलों-मंदिर में, मेरा क्या काम
जहाँ पूजे जाते हो, बस “पत्थर के राम” ।

जिनकी नींवों में, चुने गयें हों, लाशों का अम्बार,
जिनके गलियारों में गूंजे, दर्द-भारी चीत्कार,
जिस सिंघासन के पायों में, दबे हो संस्कार,
सुनहरी चमक धमक से हो, चुंधियाता अंधकार,
सीता बोलीं, ऐसे महलों-मंदिर में, मेरा क्या काम,
जहाँ “मेरे राम” न हों, हो बस “राम के नाम” ।

#poornaviraam #ayodhyaverdict

Thanks for reading and sharing your view on the blogpost. Don't miss other interesting blogposts on Poornaviraam.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Powered by WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: