अम़न खा़तिर…


Exasperation of a “Silenced Critique”…

“ताकि कमान से ना छूटे, उसका अहंकार,
अम़न-ए-वतन खा़तिर, त्याग दिये,
सर्वस्व अधिकार मैंने !

ताकि बना रहे उसका, कद कद्र बरकरार,
अम़न-ए-रिवायतों खा़तिर, परदा किये,
सर्वत्र सरोकार मैंने !

ताकि अन्ततः ज्वलंत रहे, उसकी ज़हरीली हुंकार,
अम़न-ए-जिरह़ ख़ातिर, मौन किये,
समझ, शिष्टाचार मैंने !

ताकि “झमूरीयत” कारोबार के वशीभूत रहे, उसकी जमहूरियत सरकार,
अम़न-ए-विषमता ख़ातिर, बिसरा दिये,
दरिद्रता के हाहाकार मैंने !”

ताकि कालचक्र स्वतः विध्वंस करे, उसकी खोखली दीवार,
अम़न-ए-रूह़ ख़ातिर, समर्पित किये,
ढाल, हथियार मैंने !

Advertisements

Thanks for reading and sharing your view on the blogpost. Don't miss other interesting blogposts on Poornaviraam.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s